पशुपालक है तो इन बातो का ध्यान रखना बेहद जरुरी, जाने ख़ास बाते

Written by Priyanshi Rao

Published on:

पशुपालन : यदि आप पशुपालन करते है तो अभी के समय में बदलते मौसम के चलते पशुओ का ख्याल कैसे रखना है वो अच्छे से जानते होंगे। फिर भी कुछ ख़ास बातो का ध्यान अगर आप नहीं रखते है तो उसके बारे में यहाँ पर बात करते है। ताकि पशुओ का स्वास्थय अच्छा रखा जा सके एवं दूध उतपादन को बढ़ाया जा सके। अभी के समय में मौसम लगातार बदल रहा है। जिसके चलते रात में ठण्ड हो रही है और दिन में कड़ाके की धुप पड़ रही है। जिससे पशुओ को वातावरण के अनुकूल होने में थोड़ा सा समय लगता है । ऐसे में थोड़ी सावधानी पशुओ को ठीक रहने में मदद करेगी। आइये जानते है क्या कुछ सावधानी इस बदलते मौसम में आप रख सकते है।

बदलते मौसम में पशुपालन में इन खास बातो पर दे ध्यान।

यदि आपके पास एक या दो पशुओ है। तो उनके लिए आपके पास पर्याप्त जगह तो होगी ही। ऐसे में उस जगह पर साफ सफाई अच्छे से रखे और पशुओ के स्थान को गिला न होने दे, क्योकि रात के समय जो ठण्ड होती है। वो पशुओ के लिए खतरनाक हो सकती है पशुओ को ठण्ड लग सकती है। जिससे दुधारुओ पशुओ के दूध उतपादन में असर हो सकता है। इसके साथ ही दिन में पशुओ को जल्दी अंदर बांधे क्योकि धुप अच्छी खासी होती है। जिससे पशुओ को दिक्क्त होने लगती है।

इस मौसम में खिलाये हरा चारा

अभी का जो मौसम में उसमे पशुओ को हरे चारे की जरुरत काफी अधिक होती है। क्योकि सर्दी के मौसम में जो पोषक तत्व पशुओ को नहीं मिल पाए थे। उनकी पूर्ति जरुरी है । ऐसे में अभी जो मौसम है उसमे पशुओ को जितना हो सके हरे चारे का मिश्रण खिलाये। इससे पशुओ में जो पोषण के लिए जरुरी तत्व की कमी होती है वो पूर्ण हो जाती है। पशुओ का स्वास्थ्य भी ठीक रहता है।

पर्याप्त मात्रा में पानी पिलाये

जैसे जैसे गर्मी बढ़ती है पानी की जरुरत बढ़ती जाती है। दिन में जबरदस्त गर्मी हो रही है। ऐसे में पशुओ को पर्याप्त मात्रा में पानी पिलाना जरुरी है। ताकि पशुओ के सहरीर में तापमान नियंत्रण बना रहे। और शरीर की सभी प्रक्रिया पूर्ण रूप से काम करती रहे। यदि हो सके।

पशुओ को छांव में रखे

दिन में यदि आप पशुओ को बाहर ही रखते है तो कोशिश करे की किसी पेड़ की छांव में पशुओ को रखे। क्योकि सीधी धुप से पशुओ के स्वास्थय पर असर होता है। खासकर भैंस को। पशुओ को पेड़ की छांव में रखने से सीधी धुप नहीं आती है। इससे तापमान का असर इतना अधिक पशुओ पर नहीं होता है।

दुधारू पशुओ का रखे ख़ास ख्याल

जैसे जैसे गर्मी बढ़ती है तो पशुओ में दूध के घटने की दिक्क्त होने लगती है। हर पशुओ की सहनशील क्षमता अलग होती है। जिसके चलते तापमान का असर पशुओ पर होता है। यदि पशुओ दुधारू है तो उसको सुबह के समय धुप में रखे इसके बाद दोपहर से पहले ही इसको छांव में रखे। इससे उनके स्वास्थय पर असर नहीं होता है। साथ में पर्याप्त एवं ठंडा (नार्मल) पानी पर्याप्त मात्रा में पिलाये। दुधारू पशुओ को पर्याप्त मात्रा में हरा चारा दे। इससे दूध घटने की समस्या नहीं होगी।

Leave a Comment