2023 में मक्का की 7 टॉप किस्मे किसानो को देगी तगड़ा मुनाफा ,जिससे किसान होंगे मालामाल

Written by Saloni Yadav

Published on:

Maize Top Varieties :

मक्के की खेती को बहुत उपयोगी फसल मानी जाती है ,इसकी खेती पहाड़ी और मैदानी दोनों इलाकों में की जाती है इसकी फसल रबी और खरीब दोनों की फसलों के साथ उगाया जाता है ,भारत में भी मक्के की खेती मुख्य रूप से की जाती है। इसका औद्योगिक दृस्टि से महत्व होता है। मक्के की खेती भारत में उगाई जाने वाली प्रमुख फसल है ,मक्के को अनेक प्रकार से प्रयोग में लिए जाता है ,मक्के का प्रयोग पशुओ को खिलने में भी किया जाता है। मक्के की अनेक उन्नत किस्मे होती है ,जो जलवायु और मिट्टी के अनुसार अच्छी पैदावार देती है। मक्का में अनेक प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते है , खनिज तत्व के रूप में इसमें जिंक, आयरन ,फॉसफोरस, मैग्निशियम और कॉपर आदि पाए जाते है।

मक्का की फसल को खाद्य फसल के रूप में उगाई जाती है ,मक्के की खेत को किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगा सकते है ,इसकी खेती भारत में मुख्य रूप से राजस्थान , उत्तर प्रदेश ,बिहार, कर्नाटक ,आंध्र प्रदेश ,हरियाणा आदि राज्यों में की जाती है। किसान भाई मक्के की खेती कर बहुतायत में मुनाफा कमाते है ,जिससे इसकी मांग देश – विदेशो में मुख्य रूप से होती है। इसकी फसल अन्य फ़स्ल की बजाय कम समय में अधिक मात्रा में उत्पादन देती है। यह फसल 3 महीने में पककर तैयार हो जाती है ,जिससे किसानो की जल्दी ही मुनाफा प्राप्त होता है।

मक्का की खेती नगदी फसल की रूप में की जाती है। इसकी अनेक उन्नत किस्मे पाई जाती है इसकी उन्नत किस्मे अच्छी पैदावार से किसानो की अच्छी कमाई करती है अगर किसान भाई भी इसकी उन्नत किस्मो की खेत कर मुनाफा कमाना चाहते है तो आपको सबसे पहले उन्नत किस्मो की जानकारी होना आवश्यक है इसलिए हमारी यह पोस्ट आपके लिए काफी लाभदायक होने वाली है आइये जानते है इसकी 7 उन्नतशील किस्मो के बारे में।

मक्का की 10 टॉप किस्मे

पूसा हाइब्रिड 1 किस्म

यह मक्का की जल्दी पकने वाली किस्म होती है ,जो 85 – 90 दिनों में पककर तैयार हो जाती है। यह मक्के की संकर किस्म होती है। इस किस्म को मुख्य रूप से भारत में तमिलनाडु ,कर्नाटक और आन्ध्रप्रदेश राज्यों में उगाई जाती है ,यह किस्म प्रति हेक्टैयर के हिसाब से 35 से 40 किवंटल की पैदावार देती है।

पूसा मक्का विवेक QPM 9 किस्म

यह किस्म दिल्ली में कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा तैयार की गयी है ,यह किस्म 100 दिनों में पूरी तरह पककर तैयार हो जाती है ,यह किस्म मुख्य रूप से कर्नाटक ,आंध्रप्रदेश ,महाराष्ट , उत्तराखंड के पहाड़ी प्रदेशो ,तेलगाना जम्मू और कश्मीर और हिमाचल प्रदेश आदि राज्यों में की जाती है। यह किस्म 60 से 65 किवंटल की पैदावार देती है।

शक्तिमान किस्म की मक्का

इस किस्म में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और पोषक तत्वों पाए जाते है ,यह किस्म प्रति हेक्टैयर की हिसाब से 70 से 75 किवंटल की पैदावार देती है। यह किस्म 100 से 120 दिनों में पककर तैयार हो जाती है। और यह किस्म कम समय में अधिक मात्रा में पैदावार के रूप में जानी जाती है। यह किस्म भारत में मुख्य रूप से मध्य्प्रदेश और राजस्थान में उगाई जाती है।

HM – 11 किस्म

मक्के की यह किस्म काफी देर से पकती है ,लेकिन अधिक देर से पकने पर अच्छी पैदावार देती है। इस किस्म से किसानो को काफी मात्रा में अच्छा मुनाफा प्राप्त होता है। मक्के की यह किस्म भारत में उत्तरप्रदेश ,छतीसगढ़ और बिहार में मुख्य रूप से पाई जाती है। यह किस्म 80 से 90 किवंटल की पैदावार देती है। यह किस्म मक्के की संकर किस्म होती है ,जो 110 से 120 दिनों में पककर तैयार हो जाती है।

गंगा – 5 किस्म

मक्के की इस किम को अगेती किस्म के रूप में भी उगाया जाता है ,इस किस्मो असिंचित क्षेत्रों में उगाया जाता है ,जो वर्षा पर आधारित होती है ,इसके दाने पीले रंग में पाए जाते है ,यह किस्म प्रति हेक्टैयर के हिसाब से 60 से 62 किवंटल की पैदावार देती है जो भारत के राजस्थान ,हरियाणा ,मध्य्प्रदेश और उत्तरप्रदेश में मुख्य रूप से उगाई जाती है।

पूसा – MH 9 किस्म

यह किस्म भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ,नई दिल्ली द्वारा विकसित की गयी थी ,यह किस्म अधिक उत्पादन के लिए जानी जाती है। जो मुख्य रूप से झारखंड, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में उगाई जाती है ,जो अच्छी मात्रा में पैदावार देती है। यह फसल पौध रोपाई के 90 दिनों में तैयार हो जाती है ,इस किस्म में
लाइसीन 2.97 % ,ट्रिप्टोफैन 0.68 % पाई जाती है ,यह मक्का की संकर किस्म होती है।

गुजरात मक्का

मक्के की यह किस्म जल्दी पककर तैयार हो जाती है ,यह किस्म राजस्थान ,गुजरात और मध्य्प्रदेश में मुख्य रूप से उगाई जाती है। जो 80 दिनों में पककर तैयार हो जाती है। और प्रति हेक्टैयर के हिसाब से यह किस्म 40 से 42 किवंटल की पैदावार देती है।

अन्य उन्नत किस्मे इस प्रकार है

इसके अलावा भी मक्का की अनेक उन्नत किस्मे होती है ,जो जलवायु ,और मिट्टी के अनुसार अच्छी पैदावार देती है ,और जल्दी व् देर से पकती है ,वे किस्मे इस प्रकार है –

देर से पकने वाली मक्के की उन्नत किस्मे

  • एचएम- 11
  • बिस्को- 855
  • SMH – 3904 किस्म
  • NK – 6240 किस्म
  • HQPM – 4 किस्म
  • बिस्को- 855
  • डेक्कन- 101,103 और 105

कम समय में या जल्दी पकने वाली उन्नत किस्मे

  • विवेक-42
  • प्रताप हाइब्रिड मक्का-1
  • विवेक-17
  • विवेक-4
  • जवाहर मक्का-8,
  • विवेक-43

Leave a Comment