गाय पालन व्यवसाय कैसे करे? जानिए गाय पालन की सम्पूर्ण जानकारी

Written by Saloni Yadav

Updated on:

Cow Farming Business :

आपको बता दे की भारत में बहुत से लोग ऐसे है जो किसी न किसी पशु का व्यवसाय करते है। जैसे गाय पालन ,भैस पालन ,बकरी पालन आदि व्यवसाय। गाय पालन सबसे अच्छा व्यवसाय होता है। और गाय पालन से किसानो को अधिक लाभ भी मिलता है। आजकल गाय व्यवसाय अधिक तेजी से बढ़ रहा है। गाय से अनेक फायदे होते है। गाय पालन एक रोजगार का साधन होता है और रोजगार के साथ साथ यह गरीबी पर काबू पाने का हथियार भी माना जाता है ,गाय पालन कर किसान डेयरी उद्योग भी खोल सकता है ,गाय पालन के साथ -साथ किसान अपनी खेती करके अधिक कमा सकता है।

गात एक पालतू पशु होती है। जिसका दूध सेहत की लिए काफी अच्छा होता है। इसके दूध में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है ,और इसके साथ ही गाय का गोमूत्र भी पवित्र माना जाता है ,जिसको छिड़कने से अपवित्र वस्तु भी पवित्र हो जाती है। गाय एक दुधारू पशु होने के साथ -साथ बहुत उपयोगी भी होती है। भारत में बहुत से किसानो को गाय पालन से अद्दिक लाभ की प्राप्ति हुई है। भारत में गाय को माता के समान पूजा जाता है। गाय में सभी देवताओ को वास माना जाता है गाय पालन बड़े और छोटे दोनों स्तर पर किया जा सकता है ,गाय के दूध से दही ,छाछ ,मक्खन और कई तरह की मिठाईया बनाई जाती है ,गाय को पलने पर बड़े लोग कहते है की गाय को पलने से सुख की प्राप्त होती है।

प्राचीन काल से ही गाय पालन किया जा रहा है। इसके साथ गाय के बछड़े जब बड़े हो जाते है तो उनका भी खेत की जुताई में महत्वपूर्ण योगदान होता है। गाय पालन करने के लिए सबसे पहले आपके पास जगह का होना जरूरी है और अन्य चीजे है ,जो गाय पालन करने से पहले होनीचाहिए या आप खरीदे सकते है , आजकल बड़े पैमाने पर व्यवसाय किया जाता है ,जिससे अधिक फायदा होता है वैसे पशुपालन किये जाने वाली लोगो को सरकार द्वारा सहायता के रूप में राशि दी जाती है ,अगर आप भी गाय पालन करना चाहते है तो आज हम आपको गाय पालन व्यवसाय की सम्पूर्ण जानकारी देंगे।

गाय पालन व्यवसाय शुरू करना

आपको बता दे की गाय पालन व्यवसाय शुरू करने से पहले कुछ कीजो की आवश्यकता होती है। तभी गाय पालन सफल हो सकता है। इसके लिए साबसे पहले जमीन की जरूरत होती है। और उसके बाद अन्य व्यवस्था भी होनी चाहिए ,जैसे -गाय को खाने के लिए दाना और घास ,इसके साथ ही पानी की व्यवस्था और अन्य व्यवस्थाए सफलतापूर्वक की जानी चाहिए। इसके बाद आप गाय पालन शुरू कर सकते है।

गाय पालन व्यवसाय से होने वाला लाभ

गाय पालन से किसानो को अधिक प्रकार से लाभ की प्राप्ति होती है। गाय का व्यवसाय कर किसान देश में लोगो की कमियों को पूरा करते है , इससे होने वाले लाभ कुछ इस प्रकार है ,आइये जानते है –

  • गाय पालन कर किसान डेयरी खोल सकते है ,जिससे अधिक कमाई हो सकती है।
  • गाय के दूध से मावा ,पनीर ,और अन्य तरह की मिठाई बनाई जा सकती है।
  • गाय के गोबर से उपले बनाये जाते है और सदियों में उपलों को माचिस लगाकर सर्दी को कम किया जाता है। और इसके साथ ही
  • गाय का गोमूत्र से पाठ पूजा और अपवित्र वस्तु को पवित्र करने के काम में लिया जाता है।
  • गाय की गोबर का प्रयोग खाद के रूप में खेत में डालते है ,जिससे फसल की पैदावार अच्छी होती है।
  • गाय के गोबर से बायोगैस का निर्माण किया जाता है ,जिस गैस का प्रयोग खाद पदार्थ को बनाने में किया जाता है।
  • गाय पालन करने से सरकार द्वारा सब्सिड़ी दे जाती है ,जिससे आपकी आय में और भी वृद्धि हो सकती है

गाय की प्रमुख नस्ले

थारपारकर

इस नस्ल की गाय अधिक मात्रा में दूध देती है। यानि की 12 से 13 लीटर दूध देती है। तह नस्ल मुख्य रूप से जैसलमेर ,जोधपुर और बीकानेर के क्षेत्रों में पाई जाती है। इस नस्ल की उत्पति थार के मरुस्थल में मानी जाती है।

नागोरी

यह नस्ल शरीर में उचाई लिए होती है और 5 से 6 लीटर तक दूध देती है। नागोरी नस्ल की गाये चूरू जिले में पाई जाती है।

भगनाडी

गाय की इस नस्ल को भी दूध के उत्पादन के लिए पाला जाता है। यह नाड़ी नदी के तटीय भागो के पास पाई जाती है इस गाय को रोटी खिलने से अधिक खुश हो जाती है। यह नस्ल मुख्य रूप से मक्का और ज्वार खाती है।

मालवी नस्ल

इस गाय के सिग नुकीले होते है। जो किसी के चुभने से अधिक नुक्सान दे सकते है यह नस्ल 2 से 3 लीटर के आस पास दूध देती है।

इसके अलावा भी गाय की अन्य नस्ल पाई जाती है जैसे – करन फ्राई गाय की नस्ल ,हरियाणा ,गावलाव,दज्जल और पवारी अन्य किस्मे है।

गाय के वह नस्ल जो अधिक मात्रा में दूध देती है

कांकरेज गाय की नस्ल

आपको बता दे की इस नस्ल की गाये अधिक दूध देने के लिए पाली जाती है। और अधिक ताकतवर भी होती है इस नस्ल की गायो के सिग की लम्बाई 13 से 18 इंच के आस पास होती है। यह नस्ल मुख्य रूप से गुजरात ,राजस्थान में पाई जाती है।

गिर नस्ल की गाय

इस गाय को रंग लाल होता है और यह अधिक मात्रा में दूध देती है ,इसको अधिकतर लोग दूध के व्यवसाय के लिए पालते है। और यह नस्ल मुख्य रूप से राजस्थान ,महाराष्ट और गुजरात में पाई जाती है।

देवनी नस्ल की गाय

यह नस्ल आन्ध्रप्रदेश में पाई जाती है ,यह नस्ल 10 से 12 लीटर के आस पास दूध देती है।

गाय पालन में ध्यान रखने योग्य मुख्य बाते

  • आपको बता दे की गाय को सुबह और शाम की समय में चारा डालना चाहिए।
  • उसके बाद दोपहर के समय गाय को नहलाना चाहिए।
  • गाय को भोजन के रूप में चारा ,खली ,और घास देनी चाहिए ,इससे गाय का दूध बढ़ जाता है।
  • गाय पालन के समय साफ -सफाई रखनी चाहिए ,जिससे गायो को किसी भी प्रकार की बीमारी न हो।

गाय पालन व्यवसाय योजना

अगर आप गाय पालन करते है तो सरकार द्वारा आपको 8 रूपये की राशि दे जाती है। इस योजना के अनुसार लोगो को सरकार द्वारा सहायता दी जाती है। जिससे किसानो की आय में वृद्धि हो सके। इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको आवदेन करना होता है ,जिसके लिए आप अपने नजदीकी शाखा में जाकर आवदेन कर सकते है।

गाय पालन से होने वाली कमाई

आपको बता दे की गाय पालन से किसानो को अच्छी -खासी कमाई होती है बड़े स्तर पर व्यवसाय करने से अधिक लाभ होता है। गाय पालन में लगने वाले खर्च को निकलकर भी किसान के पास 4 से 5 लाख की कमाई हो सकती है। इस प्रकार ही किसान को अच्छा मुनाफा होता है।

Leave a Comment