गेहूँ की उन्नत किस्मे कौन -कौनसी है ,जानिए

Written by Saloni Yadav

Published on:

Wheat Cultivation :

हम आपको बता दे की गेहूँ की खेती रबी के सीजन में की जाती है। गेहूँ उत्पादन में भारत प्रमुख स्थान रखता है ,वैसे तो भारत धान उत्पादन में पहले स्थान पर है और गेहूँ उत्पादन में दूसरे स्थान पर है ,ज्यादातर गेहूँ का उपयोग खाने के लिए किया जाता है। और भैंस के चारे के लिए भी गेहूँ का उत्पादन किया जाता है। आपको बता दे की गेहूँ में एक प्रोटीन पाया जाता है ,जिसका नाम ग्लूटिन है। भारत में गेहूँ को अधिक मात्रा में प्रयोग किया जाता है ,और इसकी कमी होने से इसके उत्पादन में बढ़ोतरी की जारी है ,भारत में ज्यादातर लोग गेहूँ की रोटी बनाकर कहते है ,गेहूँ तो मनुष्य के जीवन का एक प्रमुख आधार बन गया है। गेहूँ में मुख्य रूप से प्रोटीन ,कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा भी पाई जाती है। गेहूँ का उत्पादन भारत के साथ -साथ अमेरिका ,चीन और अन्य देशो में भी इसका उत्पादन किया जाता है। गेहूँ की फसल अन्य फसलों में से मुख्य फसल मानी जाती है , गेहूँ अनेक लोगो का मुख्य भोजन माना जाता है ,भारत में भी इसकी अन्य किस्मो को उगाया जाता है। देश में अधिक जनसख्या होसे से इसके उत्पादन में बढ़ोतरी की गयी और भारत के लोगो को गेहूँ की प्राप्ति के लिए किसानो द्वारा गेहूँ की खेती के लिए उन्नत किस्मो का प्रयोग किया गया है ,ताकि कम समय में किसान अधिक पैदावार प्राप्त कर सके।

भारत में गेहूँ की फसल का महत्वपूर्ण योगदान है। यह भारत के कई राज्यों में की जाती है। भारत में गेहूँ की फसल 8.7 फीसदी पाई जाती है। और यह फसल भारत में फसलों में से 13 % उगाई जाती है , गेहूँ की फसल भारत में उत्तर और उत्तर पश्चिमी में मुख्य रूप से खाने के उपयोग में ली जाती है। भारत में गेहूँ को मुख्य रूप से राजस्थान ,,पंजाब ,मध्यप्रदेश ,उत्तरप्रदेश ,हरियाणा और गुजरात आदि में मुख्य रूप से उत्पादित की जाती है। यह फसल सभी फसलों में सबसे मुख्य फसल मानी जाती है , गेहूँ से अनेक प्रकार की चीजे बनाई जाती है ,जैसे बिस्कुट ,केक ,ब्रेड और अन्य चीजे बनाई जाती है। इसकी खेती के लिए ठन्डे मौसम की आवश्यकता होती है। और इसकी खेती किसी भी मिट्टी में कर सकते है ,इसके अलावा इसकी खेती रेतीली और बलुई दोमट मिट्टी में अच्छी पैदावार देती है । और इसकी फसल की खेती उसी खेत में की जानी चाहिए ,जिसकी भूमि का PH मान 6 से 7 होना चाहिए।

अगर आप भी गेहूँ की खेती करना चाहते है तो आज हम आपको गेहूँ की खेती की सम्पूर्ण जानकारी देंगे ,जिससे आपको बाजरे की खेती की उन्नत किस्मो की जानकारी मिलेगी।

गेहूँ की अधिक पैदावार देने वाली किस्मे

आपको बता दे की गेहूँ की कुछ किस्मे कम समय में भी अधिक पैदावार देती है और जिससे किसानो को भी अच्छी मात्रा में मुनाफा होता है। यह किस्म एक हेक्टैयर के क्षेत्र में लगभग 80 किवंटल की पैदावार देती है ,अच्छी पैदावार देने वाली कुछ किस्मे इस प्रकार है –

  • पूसा यशस्वी की किस्म
  • करण श्रिया की किस्म
  • करण नरेंद्र की किस्म
  • करण वन्दना की किस्म
  • DDW 47

गेहूँ की अन्य किस्मे जो अब नई है

आपको बता दे की गेहूँ की कुछ किस्म है ,जो अभी बोई जाने लगी है और यानि की 2023 की नई किस्म है जिसको 2023 में पंजाब ,हरियाणा ,और उत्तर प्रदेश में उगाया गया है। ये किस्मे सबसे उत्तम किस्मे मानी जाती है। जो कुछ इस प्रकार है –

  • DBW – 296
  • DBW – 332
  • DBW – 327

गेहूँ की सिचाई वाली उन्नत किस्म

आपको बता दे की गेहूँ की वे किस्म जो कम सिचाई पर भी अच्छी पैदावार देती है और किसानो को अधिक मुनाफा भी देती है। कुछ किस्मे ऐसी होती है जो अधिक सिचाई पर अधिक पैदावार देती है ये कुछ किस्मे इस प्रकार है –

  • गेहूँ की कम सिचाई वाली उन्नत किस्मे –

  1. गोमती k 9465 और गोमती k 9644
  2. इंद्रा k 8962
  3. एच डी आर 77
  4. मगहर k 8027
  • गेहूँ की अधिक सिचाई वाली उन्नत किस्मे –

  1. डी अल 784 – 3 या इसको वैशाली भी कहा जाता है
  2. सोनाली एच पी -1633
  3. एच डी – 2643
  4. त्रिवेणी ब्रांड

आदि किस्मे होती है जो कम सिचाई में भी अच्छी पैदावार देती है और अधिक सिचाई में भी अच्छी पैदावार देती है।

गेहूँ की कुछ अन्य किस्मे इस प्रकार है –

आपको बता दे की गेहूँ की कुछ ऐसी किस्मे होती है जो भारत और अन्य देशो में भी उगाई जाती है ,कुछ किस्मे इस प्रकार है –

  • पी बी डब्लू 752 और पी बी डब्लू 677
  • डब्लू एच 542 गेहूँ की किस्म
  • उन्नत PBW 343 किस्म
  • PBW 509 और PBW 373
  • कल्याणसोना
  • HD-293 और RAJ-3765
  • पुसा बाहर (HD 2 9 87) किस्म
  • पुसा थेंमालाई (WH 5216 ) किस्म
  • मालवा रत्न (HD-4672)
  • शारबाती सोनारा कलियन सोना छोटीलेरमा (S-331)
  • छत्तीसगढ़गेहूं -4 और छत्तीसगढ़गेहूं -3
  • निलगरी खापली
  • राजलक्ष्मी (HP-1731)
  • राजेश्वरी -1744
  • कंचन -803

Leave a Comment